ड्रीम गर्ल-2 फिल्म की खास बात क्या है?

यह फिल्म एक प्रकार का सोशल मैसेज लोगों के समक्ष प्रस्तुत करने में काफी हद तक सफल रहता है  

हमारे समाज में दूसरों की काफी अहम भूमिका रहती है इसी के कारण आज समाज को पुरुष प्रमुख समाज के नाम से भी जाना जाता है ऐसी पड़ोसी मानसिकता को समाज से खत्म करना बेहद आवश्यक है 

आयुष्मान खुराना हालांकि ऐसे ही विषय पर काम करते रहते हैं उन्होंने इससे पूर्व भी ऐसी कई विषयों पर फिल्म बनाई है जो कि दर्शकों को काफी पसंद आई है 

इस फिल्म के माध्यम से डायरेक्ट यह कहना चाहते हैं कि समाज में यदि कोई व्यक्ति महिला का भेष लेकर आता है तो यह अपने आप में कोई शर्म की बात नहीं है बल्कि या बड़ी सामान्य सी बात है यदि कोई महिला किसी पुरुष का वेश लेकर समाज में आती है  

इसे आम बात माना जाता है लेकिन यदि कोई पुरुष महिला के वस्त्र पहन कर या मेकअप करके समाज में सामने आता है तो लोग इसे निंदा की नजरों से देखते हैं डायरेक्टर और लेखक लोगों के इसी सोच को बदलना चाहते हैं और इसीलिए उन्होंने इस बेहतरीन फिल्म का निर्माण किया है. 

 आयुष्मान खुराना के सामने इस फिल्म में एक और चैलेंज थी इस फिल्म में जो अभिनेत्री कार्य कर रही है उसके पिता ने आसमान खुराना के समक्ष एक बड़ा विकल्प या रखा था कि अगर तुम मेरी बेटी से शादी करना चाहते हो तो तुम्हें अपने खाते में कम से कम 25 लख रुपए इकट्ठा करने पड़ेंगे तभी मैं तुम्हें अनुमति दूंगा कि तुम मेरी बेटी से ब्याह कर उसे अपने घर ले जाओ  

क्या है इस फिल्म का विषय? इस फिल्म में आयुष्मान खुराना एक व्यक्ति की भूमिका निभा रहे हैं जो कि अपने पिता के कार्य को चुकाने की बड़ी कोशिश करता है उसके पिता दिन प्रतिदिन उसे ताना मारते रहते हैं कि तू कुछ काम क्यों नहीं करता तेरे जैसा निकम्मा बेटा तो मैं पैदा करके पछता रहा हूं 

 

इन्हीं सप्ताहों से तंग आकर आयुष्मान खुराना नौकरी खोजने के लिए निकल पड़ते हैं और अब वह ऐसी नौकरी खोजते हैं जिसको कोई नहीं करना चाहता है लेकिन इस नौकरी में उन्हें अच्छे खासे पैसे मिल जाते हैं जैसा कि ड्रीम गर्ल पार्ट वन में आपने देखा था 

 

MORE INFORMATION CLICK HERE