पीरियड समय पर नहीं आने  का बड़े कारण जाने।  

पीरियड्स अनेक कारणों में से एक है जिसमें मुख्य रूप से तनाव शामिल है। जब आप तनाव में होती है तो उससे शरीर में हार्मोनल असंतुलन होने लगती है। जिसके कारण पीरियड समय से पहले या बाद में आते हैं।  तनाव से बचने के लिए खुद को busy रखे

1.तनाव में रहना

बर्थ कंट्रोल का उपयोग करने से भी पीरियड के समय में बदलाव आ सकता है। अगर आप बर्थ कंट्रोल का इस्तेमाल करती हैं तो इसे रोक कर देखें। साथ ही, प्रॉपर मदद के लिए स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें।

2.बर्थ कंट्रोल का इस्तेमाल 

जब एक महिला गर्भवती होती है तो उसके पीरियड्स रुक जाते हैं। पीरियड मिस होने का एक बड़ा कारण प्रेग्नेंसी भी है। इस बात की पुष्टि करने के लिए आप घर बैठे प्रेगनेंसी किट का इस्तेमाल कर सकती हैं। अधिक सहायता के लिए आप क्लिनिक जाकर डॉक्टर से भी मिल सकती हैं।

3. प्रेगनेंट होना 

जिन लोगो का वजन उनके age से कम या अधिक होता है। उनके पीरियड अनियमित या नही आते है। इस स्थिति में आप डाइट और अपने ऊपर ध्यान देकर वजन बना लेना चाहिए। इसके लिए आप ऑनलाइन साइट या यूट्यूब की मदद ले सकते है।

4. वजन कम या ज्यादा होना 

पीरियड्स में क्या नहीं करें? वैक्सिंग या शेविंग न करें। नमक का सेवन न करें। स्तनों की जांच न कराएं। कॉफी का अत्यधिक सेवन न करें। असुरक्षित यौन संबंध नहीं बनाना चाहिए।

जिन लोगो का वजन कम होता हैं उनके पीरियड का समय बदल जाता है । अधिक काम करना शारीरिक गतिविधि ज्यादा कर देने से पीरियड में योगदान देने वाले हार्मोन प्रभावित रूप से कम हो जाते हैं।

पीरियड में देरी के कारण 

मोटापा ज्यादा सेक्स करना बर्थ कंट्रोल दवा का सेवन गर्भावस्था थायराइड पीरियड न होने तथा समय पर ना आने के नुकसान क्या क्या है? 

पीरियड न होने के अनेक नुकसान हैं। हालांकि उपचार की मदद से बचा जा सकता है। पीरियड न आने पर क्या क्या नुकसान हो सकते है। प्रजनन क्षमता मे कमी आ जायेगी । 

हड्डियां कमजोर । एथलीट महिलाओं को उम्र के साथ ऑस्टियोआर्थराइटिस का खतरा बढ़ना। कुछ मामलों में सेक्स करने की खतरा बढ़ना पीरियड नही आने के बाद ब्लीडिंग होना ।