क्यों मनाया जाता है ओणम क्या है इसके पीछे की पौराणिक रहस्य,जाने ओणम से जुड़ी हुई कुछ रोचक तथ्य:Onam 2023 Celebration In Kerala

Aditya Kushwaha
11 Min Read

क्यों मनाया जाता है ओणम क्या है इसके पीछे की पौराणिक रहस्य,जाने ओणम से जुड़ी हुई कुछ रोचक तथ्य:Onam 2023 Celebration In Kerala

 

नमस्कार प्यारे दोस्तों स्वागत है आपका हमारे एक और बेहतरीन आर्टिकल में जहां हम बात करने जा रहे हैं आज के सबसे खास विषय के बारे में जिसका नाम है ओडम ओडम दक्षिण भारत में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय त्यौहार है यह त्यौहार लगभग 12 दिनों तक मनाया जाता है यह त्यौहार मुख्य रूप से केरल के इलाकों में ज्यादा इस त्यौहार में लोग अपने घरों के आंगन को रंगोली से रखते हैं एवं ढेर सारे पकवान अपने घरों में बनाया करते हैं बड़े ही प्रेम और हर्ष उल्लास से इस त्यौहार को मनाया जाता है तो चलिए इस त्योहार से जुड़ी हुई कुछ रोचक तथ्यों के बारे में आज जान लेते हैं

Onam 2023 Celebration In Kerala

ओणम दक्षिण भारत का एक अद्भुत त्योहार जाने इसके पौराणिक महत्व को
ओणम दक्षिण भारत का एक अद्भुत त्योहार जाने इसके पौराणिक महत्व

ओणम 2023 का मुख्य दिन कौन सा है?

ओणम 2023 के मुख्य तिथि के बारे में यदि बात किया जाए तो इसकी मुख्यातिथि तिरुवोणम तिथि और यदि त्यौहार के समय समय की बात की जाए तो वह तिरुवोणम नक्षत्रम सुबह 02:43 बजे शुरू हो जाता है एवं  29 अगस्त, 2023 को रात्रि को 11:50 बजे समाप्त होने वाला है.

ओणम कब तक है?

ओणम 2023: अगर बात करें ओणम त्यौहार के बारे में तो मुख्यतः ओणम त्यौहार केरल के मलयाली समुदाय द्वारा मनाया जाता है यह एक 10 दिवसीय फसल उत्सव के रूप में मनाया जाता है इसे दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में भी मनाया जाता है .

ओणम वर्ष में कितनी बार मनाया जाता है?

मुख्यतः ओणम त्यौहार वर्ष में एक बार मनाया जाता है यह हर वर्ष अगस्त या सितंबर के महीने में मनाया जाता है.

Onam 2023 Celebration In Kerala

राजा बलि कौन थे?

महाबली जिनमें कुछ अनेक नाम यू है बाली , इंद्रसेन या मावली इत्यादि से भी जाने जाते हैं अगर उनके परिवार की बात की जाए तो वह प्रहलाद के पोते एवं ऋषि कश्यप के वंशज माने जाते थे उनकी कथा के कई संस्करण है जैसे की रामायण , महाभारत और कई पुराने जैसे प्राचीन ग्रंथ इत्यादि.

ओणम की शुरुआत किसने की थी?

ओणम दक्षिण भारत का एक अद्भुत त्योहार जाने इसके पौराणिक महत्व को
ओणम दक्षिण भारत का एक अद्भुत त्योहार जाने इसके पौराणिक महत्व को

यदि बात करें तो भगवान विष्णु ने राजा महाबली को कलयुग के अंत तक अपने राज्य पर शासन करते रहने और ओणम के दौरान अपने राज्य और वहां के रहने वाले लोगों से मिलते रहने का अधिकार दिया लोग महाबली का स्वागत जोर-जोर से करते हैं एवं महाबली के स्वागत करने के लिए लोग अपने घरों और संस्थाओं के सामने फूलों के कालीन जिसे पुक्कलम भी कहा जाता है का निर्माण शुरू कर देते हैं.

ओणम को इंग्लिश में क्या कहते हैं?

यदि बात करें ओणम के इंग्लिश प्रनंसीएशन की तो इसे onem से उच्चारण किया जाता है. ओणम त्योहार एक वार्षिक भारतीय फसल उत्सव के रूप में बीते कुछ वर्षों में उभरा है जो की मुख्य रूप से केरल में रहने वाले हिंदू नागरिक द्वारा मनाया जाता है यह त्यौहार पूर्ण रूप से राज्य के अधीन आता है.

विष्णु ने महाबली का वध क्यों किया?

भगवान श्री विष्णु ने वामन अवतार लिया और वामन अवतार लेने का उनका एकमात्र उद्देश्य यही था कि वह राक्षस राजा महाबली को हरा सके राजा ने घोषणा किया था कि देवताओं का अब स्वर्ग और पृथ्वी पर स्वामित्व नहीं है एवं इसीलिए भगवान विष्णु ने इस घमंडी राजा को हराने एवं धरती का संतुलन बनाए रखने के लिए अपना पांचवा अवतार देना उचित समझा और पांचवा अवतार में भगवान श्री विष्णु ने स्वयं वामन का रूप धारण किया. मान्य नंबर

ओणम का भगवान कौन है?

अगर बात करें ओडम त्यौहार के भगवान के बारे में तो प्रयाग ओडम त्यौहार दयालु और बहुत प्रिय रक्षा राजा महाबली के सम्मान में मनाया जाता है इनके बारे में लोगों की ऐसी अवधारणा है कि वह इस त्यौहार के दौरान केरल वापस आते हैं अगर वैष्णव पौराणिक कथाओं पर विश्वास किया जाए तो राजा महाबली ने देवताओं को हरा दिया था और तीनों लोकों पर अपना शासन करना प्रारंभ कर दिया था यदि राजा के जाति के बारे में बात किया जाए तो वह राक्षस राजा एक असुर जनजाति के थे.

क्या ओणम एक मिथक है?

कई लोग ओणम पर कई तरीके के प्रश्न भी किया करते हैं कि क्या यह एक मिथक है या फिर सच्ची घटना है हम यह लोगों के आस्था पर छोड़ देते हैं यदि लोग इसे आस्थमन तरीके से मानते हैं तो हमें पूर्ण रूप से इस त्यौहार का सम्मान करना चाहिए और भगवान विष्णु के वामन अवतार का भी पूरा-पूरा सामान करना चाहिए ओणम त्यौहार के पीछे की कहानी एक सच्चे और दयालु राजा महाबली के बारे में अवगत कराती है जिन्हें प्यार से मावली भी कह दिया जाता है.
और इन्होंने एक जमाने में इस भूमि पर अपना शासन किया था.

ओणम में क्यों सफेद रंग की साड़ी क्यों पहनी जाती है ?

Onam 2023 Celebration In Kerala
Pic- Instagram : Onam 2023 Celebration In Kerala

ऐसी मान्यता है कि सफेद रंग की साड़ी प्रकृति की शुद्ध और बेदाग सुंदरता को प्रदर्शित करती है एवं सुनहरी सीमाएं सूर्य की किरणों को प्रतिबिंबित करने का कार्य करती हैं जो की देखने में अत्यंत ही मनमोहक एवं पवन लगती है ऐसे वस्त्र पहनने का उद्देश्य चाहिए है कि इससे प्राकृतिक हरियाली बनी रहे और यह एक प्रकार का प्रकृति को श्रद्धांजलि देने का तरीका है.

मुसलमान ओणम मनाएंगे?

अगर बात करें इसके पौराणिक महत्व की तो असुर राजा मावली जिन्हें महाबली के नाम से भी जाना जाता था उनकी नजर में जाति और धर्म ज्यादा मायने नहीं रखती थी तो इसीलिए सभी केरल वास उनके नजर में एक समान थे एक व्यक्ति तो यह भी कहते हैं कि ओडम एक सामाजिक मनोरंजन का उत्सव है जिसे हिंदू मुस्लिम एवं सिख इसाई सारे लोग मानते हैं.

 क्या ओणम सरकारी छुट्टी है?/क्या ओणम एक सार्वजनिक अवकाश है?

ओडम पर अवकाश एक वैकल्पिक विषय है भारत में रोजगार और अवकाश कानून कर्मचारियों को वेलकम पिक छुट्टियां दी जाती हैं और इसके लिए एक क्रमबद्ध तरीके से सूची भी बनाई गई है और इस उपलक्ष में छुट्टी चुनने की अनुमति देता है कुछ कर्मचारी इस दिन छुट्टी चुन लेते हैं हालांकि अधिकांश कार्यालय व्यवसाय खुला ही रहते हैं.

ओणम केवल केरल में ही क्यों मनाया जाता है?

भारत की संस्कृति की पहचान
भारत की संस्कृति की पहचान

ओणम केवल केरल में ही इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इसके पीछे काफी पुरानी पौराणिक कथाओं का रहस्य माना जाता है ऐसा माना जाता है कि इसका संबंध पुरानी कृषि प्रथाओं से भी है और यह केरल में ही मुख्यतः मनाया जाता है क्योंकि राजा महाबली या मावली जो की एक उदार और गुड्डी शासन के रूप में जाने जाते थे उन्होंने एक वक्त पर केरल में शासन किया था

Click For Kerala Tourism Official 

ओणम और पोंगल एक ही है?

ओणम का महत्व
ओणम का महत्व

नहीं ओणम और पोंगल दोनों अलग-अलग त्यौहार है हालांकि यह दोनों ही त्यौहार दक्षिण भारत से संबंध रखते हैं और यह दोनों ही त्यौहार वार्षिक फसल उत्सव के रूप में मनाया जाते हैं ओणम असुर राजा महाबली की घर वापसी के उपलक्ष में धूमधाम से मनाई जाती है एवं परशुराम द्वारा केरल की भूमि को एक बार समुद्र से उठाने का कार्य किया गया था जिससे उन्होंने केरल की भूमि को पुनः जीवंत कर दिया था और इसी उपलक्ष्य में पोंगल त्योहार मनाया जाता है ताकि सूर्य देव और पृथ्वी के प्रति अपना आभार व्यक्त किया जा सके.

ओणम की खास डिश कौन सी है?

ओणम में कई तरह के खास विश्व को सम्मिलित किया जाता है ओणम भोजन में निम्नलिखित व्यंजन शामिल है जैसे काया वरुथथा (केले के चिप्स) चेन्ना वरुथथु (रतालू को स्लाइस में काटकर मसालों के साथ तला हुआ) चोरू (उबले चावल) इत्यादि स्वादिष्ट एवं सेहतमंद भोजन को इस त्यौहार का हिस्सा बनाया गया है.

Read More

32 हजार वाले Vivo V29e को आधी कीमत में खरीदे, आज लॉन्च हुआ यह फोन कब है इस फोन की पहली सेल:vivo V29e Special Discount Deal vivo V29e

Duke को टक्कर देने आ गयी TVS Apache 310, मिलेगा सिर्फ 10,599 रूपए मे जाने इसके खास फीचर्स

Elon Musk का बड़ा प्लान! AI से जल्द जुड़ेंगी कार, आगामी कुछ साल में 1 करोड़ पार कर जाएगा टेस्ला का फ्लीट:Elon Musk Announcement AI Car 2023

 

 

Onam 2023 Celebration In Kerala

Share this Article
Leave a comment