ऐसा एयरपोर्ट जहां उगाई जा रही है हर साल 40 टन से अधिक सब्जियां India’s First Vegetable Farming Airport:

Aditya Kushwaha
7 Min Read
India's First Vegetable Farming Airport:

India’s First Vegetable Farming Airport: ऐसा एयरपोर्ट जहां उगाई जा रही है हर साल 40 टन से अधिक सब्जियां

पहला एयरपोर्ट जहां उगाई जा रही है सब्जियां-

India's First Vegetable Farming Airport:
India’s First Vegetable Farming Airport:

India’s First Vegetable Farming Airport: आज का दौर काफी मॉडर्नाइजेशन का दौर है आज के इस मॉडर्न जमाने में सब कुछ मॉडर्न तरीके से हो रहा है जी हां आज के इस टाइम में सब्जियां भी मॉडर्न तरीके से उगाई जा रही हैं ऐसा ही एक मामला हमारे सामने आया है जहां पर हम देख सकते हैं कि एक एयरपोर्ट जो की अति प्रसिद्ध है वहां पर वेजिटेबल की फार्मिंग की जा रही है और यह कोई छोटे स्तर पर नहीं की जा रही है यह काफी व्यापक स्तर पर वेजिटेबल फार्मिंग का एक स्थान है 40 टन से भी अधिक वेजिटेबल फार्मिंग प्रत्येक वर्ष की जाती है.

किस एयरपोर्ट पर की जा रही है यह वेजिटेबल फार्मिंग?

 

Contents
India’s First Vegetable Farming Airport: ऐसा एयरपोर्ट जहां उगाई जा रही है हर साल 40 टन से अधिक सब्जियांपहला एयरपोर्ट जहां उगाई जा रही है सब्जियां-India’s First Vegetable Farming Airport: आज का दौर काफी मॉडर्नाइजेशन का दौर है आज के इस मॉडर्न जमाने में सब कुछ मॉडर्न तरीके से हो रहा है जी हां आज के इस टाइम में सब्जियां भी मॉडर्न तरीके से उगाई जा रही हैं ऐसा ही एक मामला हमारे सामने आया है जहां पर हम देख सकते हैं कि एक एयरपोर्ट जो की अति प्रसिद्ध है वहां पर वेजिटेबल की फार्मिंग की जा रही है और यह कोई छोटे स्तर पर नहीं की जा रही है यह काफी व्यापक स्तर पर वेजिटेबल फार्मिंग का एक स्थान है 40 टन से भी अधिक वेजिटेबल फार्मिंग प्रत्येक वर्ष की जाती है.किस एयरपोर्ट पर की जा रही है यह वेजिटेबल फार्मिंग?कैसे शुरुआत हुई वेजिटेबल फार्मिंग की इस एयरपोर्ट पर?कब हुई फार्मिंग की शुरुआत?पूर्ण रूप से पेस्टिसाइड से फ्री है यह वेजिटेबल-

India’s First Vegetable Farming Airport: यह वेजिटेबल फार्मिंग कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट केरला में की जा रही है आजकल यह टॉपिक काफी सेनसनल हो चुका है और इंटरनेट पर हर जगह इस विषय पर चर्चा हो रहा है क्योंकि यह मुद्दा काफी नया है पहली बार ऐसा देखा गया है कि किसी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर फार्मिंग की जा रही है वह भी इतने व्यापक स्तर पर यह भारत का एकमात्र पहला एयरपोर्ट है जहां पर वेजिटेबल फार्मिंग हो रही है.

कैसे शुरुआत हुई वेजिटेबल फार्मिंग की इस एयरपोर्ट पर?

India's First Vegetable Farming Airport:
India’s First Vegetable Farming Airport:

India’s First Vegetable Farming Airport:कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट केरला पर वेजिटेबल फार्मिंग कोई प्लानिंग के तहत नहीं की गई थी और ना ही इसके पीछे विशेषज्ञों की एक टीम लगाई गई थी यह एक बाय डिफ़ॉल्ट होने वाली प्रक्रिया थी

आपको तो पता ही होगा कि एयरपोर्ट पर भारी मात्रा में लाइट्स का प्रयोग होता है क्योंकि एयरपोर्ट एक 24 घंटे सेवा प्रदान करने वाली पब्लिक प्रॉपर्टी है और यह लोगों के लिए 24 घंटे काम करती रहती है इसीलिए एयरपोर्ट पर लाइटिंग, एसी ,पंखे इत्यादि चीजों के लिए बिजली की जरूरत 24 घंटे बनी रहती है

इसी जरूरत की पूर्ति के लिए इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स पर अधिकतर मात्रा में सोलर पैनल इंस्टॉल किए जाते हैं सोलर पैनल इंस्टॉल करना एक एक बड़ा कार्य है और इसके लिए हर वर्ष मेंटेनेंस इत्यादि लगते हैं जो समय-समय पर इस सोलर पैनल की देखरेख इत्यादि करते हैं हर अन्य मेंटेनेंस कार्य में से एक कार्य है कि सोलर पैनल को पानी से साफ करना जी हां सोलर पैनल धूप में 24 घंटे रहते हैं

India’s First Vegetable Farming Airport: खुली हवा के संपर्क में सीधे रहते हैं जिसके कारण उस पर धूल इत्यादि जमते रहते हैं इतना ही नहीं सोलर पैनल खुले आसमान के नीचे होने के कारण किसी भी प्रकार के पक्षी उस पर मल मूत्र आदि त्याग कर देते हैं

जिससे सोलर पैनल काफी गंदे हो जाते हैं और वह पहले की तरह कार्य नहीं करते हैं तथा उनके कार्य क्षमता में गिरावट आती है जिससे बैटरी की चार्जिंग में भी गिरावट आ सकती है और और एयरपोर्ट के पावर सप्लाई में भी समस्या उत्पन्न हो सकती है इसीलिए समय-समय पर एयरपोर्ट पर लगे हुए सोलर पैनल की सफाई करना अत्यंत जरूरी है

India’s First Vegetable Farming Airport: इस सफाई के लिए सोलर पैनल्स को धुलना काफी जरूरी है इसी के तहत सोलर पैनल को धुला जाता है इतनी अधिक मात्रा में पानी प्रयोग होती है और वह अपनी जमीन पर अनायास ही गिरती है

तभी इस एयरपोर्ट पर मौजूद किसी व्यक्ति ने यह सुझाव दिया कि क्यों ना हम उस स्थान पर कुछ सब्जियों लगा दे जहां पर भारी मात्रा में पानी गिर रहा है और ऐसा किया गया उस जगह पर थोड़ी मात्रा में सब्जियां लगाई गई देखते ही देखते यह सब्जियां काफी अच्छे से उग गई और अगले महीने फिर ढेर सारी सब्जियों का ढेर उसी जगह पर लगाया गया और देखते ही देखते यह एक व्यापक का स्तर पर फार्मिंग का अवसर एयरपोर्ट अथॉरिटी को मिल गया अब इसमें लगभग प्रत्येक वर्ष 40 टन की फार्मिंग होती है

कब हुई फार्मिंग की शुरुआत?

India’s First Vegetable Farming Airport: हालांकि 2013 से पहले यह इंटरनेशनल एयरपोर्ट एक नॉर्मल एयरपोर्ट था उस वक्त तक यहां पर किसी भी प्रकार की सोलर पैनल्स की सुविधा उपलब्ध नहीं थी

यह बाकी एयरपोर्ट की तरह ही एक नॉर्मल पावर सप्लाई पर चलने वाला एयरपोर्ट था लेकिन 2013 के बाद यहां पर व्यापक स्तर पर सोलर पैनल्स इंस्टॉल किए गए और जैसे ही सोलर पैनल इंस्टॉल किए गए उसके मेंटेनेंस से जुड़े हुई क्लीनिंग के कार्य में सोलर पैनल के धुलाई होना प्रारंभ हुआ और पानी का बहाव जमीन पर हुआ और फार्मिक की क्रिया देखने को मिला जहां पर यह एयरपोर्ट अब टन में फार्मिंग कर रहा है.

पूर्ण रूप से पेस्टिसाइड से फ्री है यह वेजिटेबल-

India’s First Vegetable Farming Airport:यह वेजिटेबल्स पूर्ण रूप से पेस्टिसाइड्स और किसी भी प्रकार की केमिकल फर्टिलाइजर से मुक्त है क्योंकि जिस पानी से पैनल्स को धूल आ जाता है वह साफ पानी होता है उस पानी में किसी भी प्रकार के केमिकल के मिलावट नहीं होती है और ना ही किसी प्रकार के क्लीनर इत्यादि की भी मिलावट होती है जो कि पौधों के उगने के लिए हानिकारक होते हैं और पौधों में केमिकल की मात्रा को बढ़ाते हैं इसीलिए हम कह सकते हैं कि यह एक नेचुरली ग्रोन अथवा पेस्टिसाइड फ्री सब्जियां है जिनका उपयोग आप कर सकते हैं.

Read More:-

Share this Article
Leave a comment