चंद्रयान-3 के बाद अब इसरो ने गगनयान का सफलतापूर्वक परीक्षण किया Gaganyaan Successful Testing 2023

Aditya Kushwaha
6 Min Read
Gaganyaan Successful Testing 2023

Gaganyaan Successful Testing 2023: चंद्रयान-3 के बाद अब इसरो ने गगनयान का सफलतापूर्वक परीक्षण किया

Gaganyaan Successful Testing 2023

Gaganyaan Successful Testing 2023
Gaganyaan Successful Testing 2023

Gaganyaan Successful Testing 2023: हाल ही में चोरों ने एक और कमाल करके दिखाया है जिसमें उन्होंने गगनयान का सफलतापूर्वक परीक्षण करके दिखाया है गगनयान को अगले साल लांच करना है आपको बता दें कि यह भारत का सर्वप्रथम ऐसा मिसाइल है जिसमें मानव को अंतरिक्ष भेजा जाएगा यह भारत का प्रथम मानव मिसाइल है जिसमें कुल 3 लोगों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा.

    Gaganyaan Successful Testing 2023

गगनयान का किया सफल परीक्षण

Gaganyaan Successful Testing 2023: सरो ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वे गगनयान का सफलतापूर्वक परीक्षण करते हुए दिख रहे हैं इस वीडियो में हम साफ-साफ देख रहे हैं कि गगनयान सफलतापूर्वक अपने परीक्षण के सारे मापदंड पर खरे उतर रहा है और अगले साल तक लांच होने के लिए पूर्ण रूप से तैयारी कर रहा है टीम गायन को लॉन्च करने के लिए की जान से लगी हुई है.

अगले साल लॉन्च होगा गगनयान

Gaganyaan Successful Testing 2023
Gaganyaan Successful Testing 2023

Gaganyaan Successful Testing 2023: अगले साल तक गगनयान को लॉन्च होना है गगनयान भारत का प्रथम मानव मिसाइल होगा इसमें मानवों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा इसमें कुल तीन मानव को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा चंद्रयान-3 की अपार सफलता के बाद अब सब की नजरे गगनयान पर लगी हुई है अब ऐसे में यह देखना होगा कि क्या गगनयान करोड़ों देशवासियों के उम्मीद पर खड़े उतरता है और देश का नाम रोशन कर पता है कि नहीं हालांकि इसरो अपनी पूरी क्षमता के साथ इस मिशन को सफल बनाने में लगा हुआ है और जल्द ही इसे करेगा.

Gaganyaan Successful Testing 2023

क्या है SMPS?

Gaganyaan Successful Testing 2023: एसएमपीएस का पूर्ण रूप सर्विस मॉड्यूल प्रोपल्शन सिस्टम है और गुरुवार को गगनयान के सर्विस मॉड्यूल प्रोपल्शन सिस्टम का परीक्षण किया गया है इस परीक्षण को सफल बनाने में इसरो ने अपनी जान लगा दी और अंत में उन्हें सफलता मिली इसरो ने गगनयान के प्रथम चरण में सफलता हासिल कर पूरे भारतवर्ष का नाम गौरवान्वित कर दिया.

कहां किया गया परीक्षण?

Gaganyaan Successful Testing 2023:  गगनयान का परीक्षण इसरो के तमिलनाडु में महेंद्रगिरी स्थित प्रोपल्‍शन कॉम्‍प्‍लेक्‍स में किया किया गया जहां पर ढेर सारी विशेषज्ञों की टीम जुड़ी हुई थी और पल-पल की खबर ले रही थी पूरे देश की निगाहें टकटकी लगाकर इस मिसाइल के परीक्षण परीक्षण पर लगी हुई थी पूरा भारत वर्ष चाहता है कि गगनयान भी chandrayaan-3 की तरह आसमान की ऊंचाइयों को चीरते हुए भारत का नाम रोशन करें आज पूरा विश्व chandrayaan-3 की वजह से भारत की तारीफ कर रहा है और सारे लोग कह रहे हैं कि हमें भारत से कुछ सीख लेना चाहिए.

केंद्र सरकार ने दी chandrayaan-3 के लिए बड़ी रकम

Gaganyaan Successful Testing 2023: मौजूदा सरकार नरेंद्र मोदी की सरकार भाजपा जो कि केंद्र में पूर्ण बहुमत के साथ राज कर रही है और यह सरकार इसरो जैसे संगठन को लेकर काफी सीरियस रहती है और समय-समय पर इसरो को अच्छी खासी फनी किया करती है यह सरकार की ही देन है कि आज इस रोहित ने सफल परीक्षण कर पा रहा है इतने अधिक मात्रा में मिसाइल भेजना मोदी सरकार के वजह से ही ऐसा संभव हो पा रहा है मोदी सरकार ने ऐसे-ऐसे प्लेन निकाह के तत्व इसरो जैसे संगठनों को फंडिंग करते रहते हैं ताकि वह एक से बढ़कर एक भी साइड को लॉन्च करके भारत का सीना गर्व से चौड़ा करते रहे गगनयान 3 के लिए भी भारत सरकार ने 10000 करोड रुपए दिए हैं जो कि अपने आप में एक बड़ी रकम होती है.

क्या है इसरो का गगनयान योजना

Gaganyaan Successful Testing 2023: इसरो के गगनयान योजना के तहत इसरो पृथ्वी से 40000 किलोमीटर की ऊंचाई पर अपने तीन यात्रियों को भेजने वाला है आपको बता दें कि यह भारत का प्रथम मानव मिसाइल होगा जिसमें मानव को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा पृथ्वी से 40000 किलोमीटर की ऊंचाई पर व्यक्तियों को भेजना अपने आप में एक बड़ी बात होती है और इसरो इस कार्य में तन मन धन से जुड़ा हुआ है और भारत सरकार ने भी इसकी खूब मदद की है और पूरा देश चाहता है कि इसरो इसी तरीके से भारत का सीना गर्व से चौड़ा करता रहे.

भारतीय वायु सेना चली जा रही है मदद

Gaganyaan Successful Testing 2023: आपको बता दें कि इस कार्य को सफलतापूर्वक संपन्न करने के लिए इसरो ने भारतीय वायु सेना से भी मदद ली है इसरो ने भारतीय वायुसेना से गुहार की है कि वह अंतरिक्ष में जाने वाले 3 व्यक्तियों का चयन करें अब यह भारतीय वायुसेना की

जिम्मेदारी है कि वह 3:00 ऐसे परिपक्व व्यक्तियों की सूची इसरो को प्रदान करें जो कि अंतरिक्ष में जाने के लिए पूर्ण रूप से तैयार हैं और अंतरिक्ष में जाकर भारत का नाम गौरवान्वित करना चाहते हैं.

Gaganyaan Successful Testing 2023

Share this Article
Leave a comment