चीन ने जारी किया अपने देश का नया नक्शा ,नए नक्‍शे में अरुणाचल प्रदेश और अक्‍साई चिन पर जताया हक:China releases new official map

Aditya Kushwaha
8 Min Read

चीन ने जारी किया अपने देश का नया नक्शा ,नए नक्‍शे में अरुणाचल प्रदेश और अक्‍साई चिन पर जताया हकChina releases new official map, showing territorial claims

China releases new official map

नमस्कार प्यारे दोस्तों स्वागत है आपका हमारे एक और बेहतरीन आर्टिकल में हम बात करने जा रहे हैं इस वक्त की सबसे बड़ी खबर के बारे में चीन ने अपने देश का एक नया नक्शा लॉन्च किया है और उसने नए नक्शे में अरुणाचल प्रदेश और अक्साई चीन को अपने सीमा क्षेत्र में शामिल करते हुए अपने देश का हिस्सा बताया है यह बेहद ही आश्चर्यजनक बात है कि इतनी कहा सुनी और अनबन होने के बाद भी चीन अभी भी अपने पुराने हथकंडे अपनाने से बाज नहीं आ रहा है और भारत के सीमा क्षेत्र में घुसपैठ करने के साथ-साथ नक्शे पर भी इसे अपना क्षेत्र बताने का कार्य लगातार करते आ रहा है ऐसा लगता है जैसे चीन अपनी विस्तारवादी सोच से अभी उबर नहीं पाया है तो चलिए एक-एक करके इस विषय पर पूर्ण रूप से जानकारी इकट्ठा करते हैं.

China releases new official map, showing territorial claims
China releases new official map, showing territorial claims

China News:

चीन ने सोमवार को अपने देश का नया आधिकारिक नक्शा जारी किया है नए नक्शे में चीन ने भारत के अटूट अंग अरुणाचल प्रदेश और साथ ही अक्साई चीन पर अपना अधिकार प्रदर्शित किया है इस नशे के सामने आने के बाद भारत में कई तरीके की विवाद उत्पन्न हो गई है और लोग इस पर तरह-तरह की अपनी प्रतिक्रियाएं प्रकट कर रहे हैं अभी तक विशेषज्ञों ने भी इस पर अपनी कई तरह की प्रतिक्रिया प्रकट की हैं.

China releases new official map,

बीजिंग:

बात करें चीन की तो चीन ने आधिकारिक रूप से सोमवार को ही अपना नया नक्शा जारी कर दिया था चीन द्वारा जारी किए गए इस नक्शे पर भारत में विवाद हो गया है वर्ष 2023 के इस संस्करण में चीन ने अरुणाचल प्रदेश एवं अक्साई चीन क्षेत्र, ताइवान तथा विवादित दक्षिण चीन सागर समेत कई बड़े हिस्सों पर अपना हक प्रदर्शित करने लग रहा है. चीन के इस नशे के आने के बाद कई तरह के तनाव उत्पन्न हो गए हैं हालांकि ऐसा चीन पहली बार नहीं कर रहा है इससे पहले भी चीन ने ऐसी हरकतें कई बार कर चुका हैं चीन ऐसी हरकतें करने में महारत हासिल कर चुका है और वह पहले भी इस तरीके के कई नक्शे जारी कर चुका है जिसमें वह भारत के कुछ विभिन्न क्षेत्रों को अपने देश के क्षेत्र में बताता है और कहता है कि यह चीन के क्षेत्र में है और हर बार भारत की तरफ से उसके सामने कड़ा विरोध प्रदर्शित किया जाता है और उसे बताया जाता है कि यह सारे क्षेत्र भारत के अटूट अंग हैं और भारत के ही रहेंगे कृपया आप इसमें हस्तक्षेप ना करें

चीन चल रहा अपना विस्‍तारवादी अभियान

China releases new official map, showing territorial claims
China releases new official map, showing territorial claims

चीन द्वारा प्रदर्शित किए गए इस नक्शे पर कूटनीति मामलों और चीन मामलों के जानकार आदरणीय ब्रह्मा चेलानी ने अपनी प्रतिक्रिया प्रकट की है उन्होंने ट्विटर के माध्यम से ट्वीट करके यह लिखा है कि इस तरह की आक्रात्मकता दर्शाती है कि चीन दुनिया के किसी भी बाकी देश की तुलना में अपने पड़ोसियों के साथ भूमि और समुद्री सीमाओं पर सबसे अधिक मामलों में विवाद पर क्यों है यही कारण है कि चीन अपने पड़ोसी देशों के साथ इतने अधिक मामलों में विवाद पर है क्योंकि चीन दूसरे देशों के सीमाओं को अपने क्षेत्र में अपने आप ही शामिल करने की होड़ में लगा पड़ा है बाद में वह यह भी लिखते हैं कि वर्ष 1949 में सत्ता हासिल करने के बाद से ही चीन में कम्युनिस्ट पार्टी बिना रुके विस्तारवादी अभियान पर जारी चल रही है चालनी ने आगे बताया कि चीन ने अपने 17 पड़ोसियों के साथ सीमा विवाद जारी रखा है जो कि अपने आप में एक बड़े ही निचले स्तर की बात होती है आपको बता दें भारत ने बार-बार यह साफ किया है कि अरुणाचल प्रदेश उसका एक अटूट अंग है

Bramha Chelani Tweet over India vs china border conflicts

China releases new official map

ब्रिक्‍स में मुलाकात की थी मोदी जिनपिंग ने

अगर बात करें चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स की तो इसने एक्स जो की पूर्व में ट्विटर रह चुका है उस पर लिखा की चीन के मानक मानचित्र का 2023 संस्करण आधिकारिक तौर पर सोमवार को प्रदर्शित किया जाएगा प्राकृतिक संसाधन मंत्रालय के स्वामित्व वाली मानक मानचित्र सेवा की वेबसाइट पर इसे जारी किया जाएगा यह मानचित्र चीन और दुनिया के विभिन्न देशों की राष्ट्रीय सीमाओं की रेखांकन विधि के आधार पर संकलित करके प्रदर्शित किया जाएगा मगर हैरान करने वाली बात यह है कि यह बड़ी घटना दक्षिण अफ्रीका के जोहान्‍सबर्ग मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की छोटी सी मुलाकात के बाद लोगों के समक्ष जारी कर दिया गया है जबकि अगर बात की जाए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग की तो वे दोनों ही ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में सीमा शांति को लेकर काफी चिंता प्रकट की थी और एक साथ रजामंदी भी दी थी.

तनाव न करने पर भी हुई थी दोनों देशों में रजामंदी

China releases new official map, showing territorial claims

China releases new official map, showing territorial claims

अगर बात करें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तो दोनों नेताओं ने अपने संबंधित अधिकारियों को यह आदेश दिया था कि सैनिकों को पीछे हटने के तुरंत आदेश दे दिए जाएं साथ ही तनाव कम करने के प्रयासों को तेजी से लागू कर दिया जाए और दोनों ही देश इस पर काफी अच्छे से सहमत भी हुए थे लेकिन चीन ने नए नक्शे में ताइवान के द्वीप और दक्षिण चीन सागर के एक बड़े हिस्से पर दावा करने वाली 9 लाइन पर अधिकार जताने लग रहा है चीन ताइवान को अपनी मुख्य भूमि का हिस्सा होने का दावा बार-बार कर रहा है चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग कई बार कह चुके हैं कि वह मिलिट्री के प्रयोग से ताइवान को चीन में मिलकर ही रहेंगे इसके अलावा अगर बात किया जाए वियतनाम, फिलिपींस ,मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान दक्षिण चीन सागर क्षेत्र पर भी चीन अपना दावा कई बार प्रस्तुत करता है.

China releases new official map

Read more

32 हजार वाले Vivo V29e को आधी कीमत में खरीदे, आज लॉन्च हुआ यह फोन कब है इस फोन की पहली सेल:vivo V29e Special Discount Deal vivo V29e

Duke को टक्कर देने आ गयी TVS Apache 310, मिलेगा सिर्फ 10,599 रूपए मे जाने इसके खास फीचर्स

Elon Musk का बड़ा प्लान! AI से जल्द जुड़ेंगी कार, आगामी कुछ साल में 1 करोड़ पार कर जाएगा टेस्ला का फ्लीट:Elon Musk Announcement AI Car 2023

 

Share this Article
Leave a comment