APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्स

Aditya Kushwaha
7 Min Read

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सनमस्कार दोस्तों

आज हम सबके आदरणीय श्री एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी है आज का दिन बड़ा ही दुख का दिन है पूरा देश गम में डूबा हुआ है और सब लोग शोक माना रहे है और भला मनाए भी क्यों न APJ ABDUL KALAM जैसी महान हस्ती का देहांत जो हो गया जो हमारे देश के लिए इतने महत्वपूर्ण व्यक्ति थे ।

कैसे हुआ इनका देहांत –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सदोस्तो Apj Abdul Kalam जी का देहांत 27 जुलाई 2015 को हुआ था उनकी मृत्यु कार्डियक अरेस्ट के कारण हुई थी उनकी मृत्यु के समय वो IIM Shillong University में लेक्चर दे रहे थे ।

उनका जन स्थान –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary:
APJ Abdul Kalam Death Anniversary:

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सदोस्तो अपको बता दे की उनका जन्म तमिलनाडु के रामेश्वरम में 15 oct 1931 में हुआ था उनका पूरा नाम Avul Pakir Jainulabdeen Abdul (अवुल पाकिर जनुलाबुदीन अब्दुल ) था  उनके पिता जी का नाम Jainulabiddin Marakayar  (जैनुलाबिद्दीन माराकायर ) था  और उनकी माता जी का नाम Ashiamma Jainulabiddin(अशियम्मा जनुलाबुद्दीन ) था।

प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary:
APJ Abdul Kalam Death Anniversary:

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सआपको बता दे की उनकी शुरुवाती शिक्षा दीक्षा काफी गरीबी हालत में बीती जगा उन्होंने अपने बचपन में ढेर सारे अभाव को झेला और ढेर सारी समस्यको से ग्रस्त रहे ।

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कब की ?

कलाम ने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की वे बेहद ही प्रतिभा वान छात्र थे ।

DRDO कब ज्वाइन किया –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary:
APJ Abdul Kalam Death Anniversary:

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सउन्होंने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल करने के बाद भारत सरकार की रक्षा संधान विभाग Defence Reasearch Organisation ज्वाइन कर लिया ।

ISRO कब ज्वाइन किया –

फिर  उन्होंने भारत सरकार की एजेंसी जो की स्पेस कार्यों को करने के लिए जानी जाती है इंडियन स्पेस रिसर्च organistion को ज्वाइन कर लिया और SLV 3 के प्रोजेक्ट डायरेक्टर बन गए ।

कैसे मिला नाम मिसाइल मैन –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्स
APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्स

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सआपको बता दे की कलाम ने एकबार फिर से DRDO ज्वाइन किया और इस बार अब्दुल ने प्लानिंग के तहद काम किया और कई सारे मिसाइल को लॉन्च किया जिसके बाद उनका नाम मिसाइल मैन पड गया ।

कब बने भारत के प्रेसिडेंट –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सदोस्तो अपको बता दे की यह बात तब की जब केंद्र में कांग्रेस को गवर्नमेंट थी और उस वक्त अपने समयानुसार प्रेसिडेंट के चुनाव होने थे तो इस चुनाव ने DR APJ ABDUL KALAM जी का नाम भी दिया गया और ये नाम भारत के हिंदुत्व वादी पार्टी के द्वारा ही दिया गया था जिसका नाम NDA था जबकि रूलिंग पार्टी ने किसी और व्यक्ति का नाम दिया था और परिणाम स्वरूप कलम साहब चुन कर के प्रेसिडेंट के पोस्ट पे स्थापित होते है वे 2002 में प्रेसिडेंट बनते है और उनका कार्यकाल समय 2007 में होता है ।

कलाम साहब का लेखन –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सउन्होंने कई लेख भी लिखे जिसमे से अतिलोकप्रिय उनकी ऑटोबायोग्राफी थी जिसका नाम Wings of Fire है जो की अतिलोकप्र है ।

कलाम जी को दिए गए सम्मान –

APJ Abdul Kalam Death Anniversary: एपीजे अब्दुल कलाम जी का डेथ एनिवर्सरी,जाने उनके बारे में,उनके कुछ मोटिवेशनल कोट्सआपको बता दे की उनकी भारत के दो सबसे सर्वोच्च सम्मान से नवाजा किया गया जिनमे से पहला अवार्ड पद्म विभूषण था जो उन्हे 1990 में दिया गया था और दूसरा अवार्ड भारत रत्न था उन्हें 1997 में दिया गया था ।

Read More:-

कलाम साहब के महान विचार –

  1. अगर हमें अपने सफलता के रास्ते पर निराशा हाथ लगती है इसका मतलब यह नहीं है कि हम कोशिश करना छोड़ दें क्योंकि हर निराशा और असफलता के पीछे ही सफलता छिपी होती है।
  2. असली शिक्षा एक इंसान की गरिमा को बढ़ा देती है और उसके स्वाभिमान में वृद्धि करती है। यदि हर इंसान द्वारा शिक्षा के वास्तविक अर्थ को समझ लिया जाता और उस शिक्षा को मानव गतिविधि के प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ाया जाता तो यह दुनिया रहने लिए कहीं ज्यादा अच्छी जगह होती।
  3. “आत्मविश्वास और कड़ी मेहनत असफलता नामक बीमारी को मारने के लिए सबसे बढ़िया दवाई है।”
  4. एक समझदार बुजुर्ग की मौत का मतलब होता है एक बहुत बड़ी लाइब्ररी का जलकर राख होना
  5. “बिका हुआ पत्रकार डरा हुआ विपक्ष और मुर्दा आवाम तीनों लोकतन्त्र के लिए घातक है”

 

 

 

 

 

Share this Article
Leave a comment